कश्मीर पर लिखी चिट्‌ठी को लेकर अमेरिकी सांसद ने माफी मांगी, कहा- भारत की संप्रभुता का समर्थक हूं

वाशिंगटन. अमेरिका के एक सांसद टॉम सुओजीको पिछले हफ्ते जम्मू-कश्मीर पर विदेश मंत्री माइक पोम्पियो कोलिखे विवादित चिट्‌ठी को लेकर अमेरिकी-भारतीय नागरिकों सेआलोचना का सामना करना पड़ा। इसके बाद सोमवार को उन्होंने सार्वजनिक रूप से माफी मांगते हुए कहा, “यह मेरी गलती थी कि चिट्‌ठी लिखने से पहले मैंने अपने भारतीय-अमेरिकी दोस्तों और समर्थकों से बातचीत नहीं की।”

सुओजी ने पोम्पियो को 9 अगस्त को कश्मीर पर चिंता प्रकट करते हुए पत्र में लिखा था कि यह भारत और पाकिस्तान के बीच संघर्ष को लेकर एक संभावित बिंदु है। उसने लिखा, “भारत की पूर्वी सीमा से लगे कश्मीर की समस्याओं पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है जबकि वहीं पश्चिमी सीमा पर बेहतर तरीके से निपटा जा रहा है।”

कश्मीर में वर्तमान हालात पहले कभी नहीं थी: सुओजी

सासंद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कश्मीर पर लिए गये हालिया फैसले पर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि इससे अभी कश्मीर में जिस प्रकार का तनाव उत्पन्न हुआ है, इससे पहले कभी नहीं थी। उन्होंने कहा, “पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की हालिया अमेरिकी दौरे से यह प्रदर्शित होता है कि हमारा देश आतंकवाद विरोधी और अफगानिस्तान से लगे पाकिस्तान की सीमा पर सुरक्षा संबंधी मुद्दों को लेकर काम कर रहा है। जम्मू-कश्मीर पर भारत सरकार के हालिया कदम को लेकर हम नजर बनाए हुए हैं।”

सुओजी ने कश्मीर में मानवाधिकार केउल्लंघन का आरोप लगाया

सुओजी ने अपने पत्र जम्मू कश्मीर में मानवाधिकार का उल्लंघन का आरोप लगाते हुए लिखा, “भारत सरकार के लिए गए कदम से राज्य में अशांति फैली है। कश्मीर के लोग लंबे समय से राज्य में स्वायत्तता, आजादी और स्व-निर्णय की मांग कर रहे हैं। नए प्रतिबंधों से राज्य की स्वायत्ता और कश्मीरियों के अधिकार का हनन हो रहा है।कश्मीरियों के अधिकार और राज्य की स्वतंत्रता पर नए प्रतिबंध से राज्य में चरमपंथियों और आतंकवादियों को प्रोत्साहन मिलेगा। ”

भारत के साथ रिश्ता मजबूत करने के लिए काम करूंगा: सुओजी

उन्होंने कहा, “” इस पर अपनी माफी में उन्होंने कहा, “मैं दुखी हूं। यदि मैं पत्र लिखने से पहले भारतीय-अमेरिकी समुदाय के लोगों से मिला होता तो इस पर मैं अपनी चिंता अलग तरीके से जाहिर कर पाता।” उन्होंने कहा, “जनसेवा के पूरे करियर के दौरान, मैं भारत और उसकी संप्रभुता का प्रबल समर्थक रहा हूं। मैं उसके आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हमेशा साथ खड़ा रहा हूं। अगले 50 सालों में अमेरिका-भारत रिश्ता अधिक महत्वपूर्ण होने वाला है और यह उससे भी आगे बढ़ेगा। इस रिश्ते को आगे बढ़ाने और मजबूत करने के लिए बहुत काम किया है और आगे भी इसे जारी रखूंगा। भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। वह क्षेत्र में शांति और स्थायित्व बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहा है। कश्मीर की हालिया स्थिति अधिक चुनौतिपूर्ण है। अमेरिका सभी लोगों की शांति और सुरक्षा के लिए मदद को तैयार है।”

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Tom Suozzi, US Lawmaker Congressman Tom Suozzi Issues Apology for Kashmir Issue