इंसानियत की मिसालः मुस्लिम युवक ने रोजा फर्ज तोड़कर किया रक्तदान, बचाई जान

नई दिल्ली: एक ओर जहां लोग धर्म के नाम पर आए दिन एक-दूसरे के खून के प्यासे हैं, ऐसे में अगर कोई व्यक्ति दूसरे धर्म के व्यक्ति की जान बचाने के लिए अपना खून दान करें तो इससे बढ़कर इंसानियत का तकाजा और कुछ हो ही नहीं