37 नागरिकों को आतंकवाद के आरोप में मौत की सजा

दुबई. सऊदी अरब के आंतरिक मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि 37 लोगों को आंतकवाद से जुड़े होने के आरोप मेंमौत की सजा दी गई। सऊदी अरब कीअधिकृत प्रेस एजेंसी केमुताबिककुछ लोगों ने देश में अराजकता और सांप्रदायिक संघर्ष को भड़काने के लिए आतंकवादी संगठन बनाया था। वे चरमपंथी विचारधाराओं को अपनाकर सुरक्षा व्यवस्थाको बाधित कर रहे थे। अपराधियों को देश में आतंकवाद फैलाने का दोषी पाया गया। सभी दोषियों को मक्का-मदीना के रियाद में सजा दी गई।

कोर्ट की सहमति के बाद लिया गया फैसला

मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि साक्ष्यों के आधार पर यह फैसला शाही आदेश और कोर्ट की सहमति के बाद लिया गया। सऊदी अरब ने इस हफ्ते एक आंतकी घटना को नाकाम करने की भी घोषणा की थी। बताया गया था कि आतंकियों ने रियाद में एक इमारत को निशाना बनाया था। इस हमले में चार आतंकी मारे गए थे, जबकि 13 को गिरफ्तार कियागया था।

दो भारतीयों को भी हुई थी सजा

पिछले दिनों सऊदी अरब में दो भारतीयों के सिर काटकर उन्हें मौत की सजा दी गई थी। विदेश मंत्रालय के मुताबिक होशियारपुर निवासी सतविंदर सिंह और लुधियाना के हरजीत सिंह पर अपने साथी आरिफ इमामुद्दीन की हत्या का आरोप था। 9 दिसंबर 2015 को हुई वारदात के सिलसिले में दोनों को गिरफ्तार करके रियाद जेल में रखा गया था। हालांकि मंत्रालय का कहना थाकि सऊदी अरब सरकार ने सजा के बारे में भारतीय दूतावास को नहीं बताया था।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today प्रतीकात्मक फोटो।