दुनिया के सबसे बड़े प्लेन स्ट्रेटोलॉन्च ने भरी पहली उड़ान, 17 हजार फीट की ऊंचाई तक 304 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ा, नासा ने बताया मील का पत्थर

वीडियो डेस्क. दुनिया के सबसे बड़े प्लेन स्ट्रेटोलॉन्च ने अमेरिका के मोजावे रेगिस्तान में शनिवार को पहली उड़ान भरी। दो फ्यूजिलेज वाला यह प्लेन 17 हजार फीट की ऊंचाई पर 304 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ढाई घंटे तक उड़ा। पंखों के फैलाव के हिसाब से यह दुनिया का सबसे बड़ा विमान है। स्ट्रेटोलॉन्च उड़ाने वाले टेस्ट पायलट इवान थॉमस ने कहा- 'उड़ान अच्छी रही। यह अद्भुत था औऱ जैसी उम्मीद की गई थी प्लेन बिल्कुल उसी तरह उड़ा।'बता दें ये प्रोजेक्ट माइक्रोसॉफ्ट फाउंडर पॉल एलन का है। उन्होंने 2011 में स्ट्रेटोलॉन्च की शुरुआत की थी। पिछले साल उनका निधन हो गया, लेकिन मिशन चलता रहा। वहीं इस प्लेन की कामयाब उड़ान से नासा भी खुश है। नासा में साइंस मिशन डायरेक्टोरेट के थॉमस जुर्बुचेन ने कहा कि 'ये स्पेस के छोर चक और उससे भी परे जाने जैसा है, काश एलन यह देख पाते।'

रनवे से सैटेलाइट लॉन्च हो सकेंगे, 2020 में पहला

स्ट्रेटोलॉन्च की कुल क्षमता 227 टन वजन तक के रॉकेट व सैटेलाइट को 35000 फुट की ऊंचाई पर जाकर छोड़ने की है। विमान से गिरने के बाद वह रॉकेट आगे का सफर तय करते हुए सैटेलाइट को उसकी कक्षा में पहुंचा देगा। इससे सैटेलाइट लॉन्च करने के लिए सिर्फ एक रनवे की जरूरत होगी। कंपनी का लक्ष्य है कि 2020 तक स्ट्रेटोलॉन्च की मदद से पहला रॉकेट लॉन्च कर दिया जाएगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Stratolaunch's rocket carrier plane, the largest aircraft ever built, takes off: Latest news and updates in Hindi: Dainik Bhaskar