लगातार 6 दिन बंद रहेंगे शेयर बाजार; दूसरे विश्व युद्ध के बाद पहली बार ऐसा होगा

टोक्यो. जापान में 27 अप्रैल से 6 मई तक 10 दिनों की छुटि्टयां रहेंगी। इस दौरान शेयर बाजार भी बंद रहेंगे। शनिवार-रविवार कम करें तो बाजार में लगातार 6 ट्रेडिंग सेशन नहीं होंगे। दूसरे विश्व युद्ध के बाद पहली बार ऐसा होगा। बाजार में 6 दिनों की छुट्‌टी की बात सुनने में अच्छी लग सकती है, लेकिन ट्रेडर से लेकर रेगुलेटर तक सब चिंतित हैं। दरअसल, समस्या यह है कि जिन दिनों जापान में छुटि्टयां रहेंगी, बाकी दुनिया में कई बड़ी आर्थिक घटनाएं घट रही होंगी। जैसे, 1 मई को अमेरिका का फेडरल रिजर्व ब्याज दरों पर फैसला सुनाएगा। जापान में बाजार बंद होने के कारण ट्रेडर अगर शेयर बेचकर निकलना चाहें तो ऐसा नहीं कर पाएंगे।

नए साल पर हुआ था नुकसान

इससे पहले नए साल के मौके पर 4 दिनों की छुट्‌टी से पहले निक्केई इंडेक्स में 5% तक गिर गया था। करेंसी मार्केट को लेकर भी यही डर है। यह मार्केट शेयर मार्केट से बड़ा होता है। दुनियाभर में रोजाना इसमें 100 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के सौदे होते हैं। तारीख के हिसाब से देखें तो टोक्यो का मार्केट सबसे पहले खुलता है और न्यूयॉर्क का सबसे अंत में बंद होता है। नए साल के मौके पर टोक्यो के बाजार बंद थे। इसलिए 3 जनवरी को जब बाजार खुले तो अफरा-तफरी की स्थिति बन गई। ऑस्ट्रेलियाई डॉलर और तुर्की की लीरा बेचने के काफी ऑर्डर जमा हो गए थे। नतीजा यह हुआ कि जापानी येन एक दशक में जितना मजबूत हुआ था, उतना वह सात मिनट में चढ़ गया।

टोयोटा जैसी बड़ी कंपनियों में भी छुट्‌टी की घोषणाजापान में राष्ट्रीय छुटि्टयों को मिलाकर हर साल गोल्डन वीक मनाई जाती है। इस बार क्राउन प्रिंस नारुहितो को नया राजा बनाया जाना है। इस कारण भी छुट्‌टी रहेगी। इस तरह 27 अप्रैल से 6 मई तक 10 दिनों की छुट्‌टी हो जाएगी। इस दौरान ज्यादातर बैंक भी बंद रहेंगे, इसलिए जापान की फाइनेंशियल सर्विसेज एजेंसी ने लोगों से नकद पैसे निकाल कर रखने और बैंकों से एटीएम की विथड्रॉल लिमिट बढ़ाने को कहा है। टोयोटा मोटर जैसी बहुत सी बड़ी कंपनियों ने भी इस दौरान छुट्‌टी की घोषणा की है।

भारतीय बाजारों में भी इस हफ्ते सिर्फ 3 दिन कारोबारइस हफ्ते भारतीय बाजारों में भी सिर्फ तीन दिन कारोबार होगा। यहां बुधवार को महावीर जयंती और शुक्रवार को गुड फ्राइडे की छुट्‌टी है। सोमवार को थोक महंगाई के आंकड़े आने हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि महंगाई के अलावा 18 अप्रैल को आम चुनाव में दूसरे चरण की वोटिंग, कच्चे तेल के दाम और रुपए पर बाजार की दिशा निर्भर करेगी। नतीजों का सीजन शुरू हो चुका है। इसलिए बड़ी कंपनियों के आंकड़े भी बाजार को प्रभावित करेंगे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Japan Share Market to be closed for 6 days, traders fears as it may go down