मुकाबले कल से, 100वां खिताब जीतने वाले दूसरे खिलाड़ी बन सकते हैं फेडरर

खेल डेस्क. ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में सोमवार से साल के पहले ग्रैंड स्लेम ऑस्ट्रेलियन ओपन की शुरुआत होगी। स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर और सर्बिया के नोवाक जोकोविच खिताबी जीत के दावेदार माने जा रहे हैं। 37 साल के फेडरर अगर फाइनल मुकाबला जीत लेते हैं तो यह उनका 100वां एटीपी टाइटल होगा। वे ऐसा करने वाले दुनिया के दूसरे खिलाड़ी बन जाएंगे। उनसे पहले अमेरिका के जिमी कॉनर्स ने 109 एटीपी खिताब जीते थे।

फेडरर कर सकते हैं जोकोविच की बराबरीफेडरर ने छह ऑस्ट्रेलियन ओपन जीते हैं। इस मामले में उनके बराबर जोकोविच और ऑस्ट्रेलिया के रॉय एमर्सन हैं। फेडरर अगर इस बार यह खिताब जीत लेते हैं तो वे लगातार तीसरी बार इसे जीतने वाले दूसरे खिलाड़ी बन जाएंगे। उन्होंने 2017 और 2018 में इसे जीता था। फेडरर से पहले जोकोविच ने 2011 से 2013 तक लगातार तीन साल यह खिताब अपने नाम किया था।

फेडरर खिताब जीतने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बन सकते हैंफेडरर इस साल महीने 27 जनवरी को अगर फाइनल जीत लेते हैं तो वे इस खिताब को जीतने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बन सकते हैं। उस दिन उनकी आयु 37 साल पांच महीने और 20 दिन रहेगी। फिलहाल यह रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के केन रोजवाल के नाम है। उन्होंने 1972 में 37 साल और 63 दिन की आयु में यह खिताब जीता था।

1000 सिंगल्स मुकाबले जीत चुके हैं फेडररफेडरर ने 11 जनवरी 2015 को करियर का 1000वां मैच ऑस्ट्रेलिया के ब्रिस्बेन में जीता था। फिलहाल उनके नाम 1180 जीत है। वे पहले स्थान पर काबिज जिमी कॉनर्स से 763 जीत दूर हैं। कॉनर्स ने करियर में 1256 मुकाबले जीते थे।

फेडरर सबसे ज्यादा ग्रैडस्लैम जीतने वाले पुरुष खिलाड़ीफेडरर सबसे ज्यादा ग्रैंडस्लैम जीतने वाले पुरुष खिलाड़ी हैं। उनके कुल 20 ग्रैंडस्लैम खिताब है। इसमें से 6 ऑस्ट्रेलियन ओपन, एक फ्रेंच ओपन, 8 विम्बलडन और 5 यूएस खिताब है। इस मामले में दूसरे नंबर पर 17 ग्रैंडस्लैम के साथ स्पेन के राफेल नडाल हैं। उन्होंने एक ऑस्ट्रेलियन ओपन, 11 फ्रेंच ओपन, 2 विम्बलडन और 3 यूएस ओपन खिताब है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today फेडरर ने पिछले साल ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता था। फेडरर ने इस साल के शुरुआत में होपमैन कम जीता था। फेडरर सबसे ज्यादा 20 ग्रैंडस्लैम जीतने वाले पुरुष खिलाड़ी। फेडरर ने करियर में अभी तक 1180 मुकाबले जीते हैं।