लक्ष्मीनारायण मंदिर से भगवान मेला मैदान तक पहुंचे, अब रामलीला तक वहीं रहेंगे

हर साल की तरह इस साल भी मकर संक्रांति के अवसर पर श्री रामलीला तथा मेला का भव्य आयोजन कार्यक्रम अनुसार किया जाएगा। श्री रामलीला मेला समिति के मानसेवी सचिव डा सुधांशु मिश्र ने तिथिवार आयोजित होने वाले रामलीला के प्रसंगों के संबंध में बताया है कि 13 जनवरी की सुबह दस बजे से भूमिपूजन संबंधी कार्यक्रम आयोजित किया गया है। शनिवार को भगवान को लक्ष्मीनारायण मंदिर से रामलीला मेला प्रांगण पहुंचाया गया है। अब वे रामलीला तक वहीं रहेंगे। इसके बाद आखिरी में उनकी वापसी होगी। 14 को शंकरजी की बारात अपरान्ह तीन बजे से माधवगंज शिवालय से प्रस्थान कर सायं सात बजे श्री रामलीला प्रागंण पहुंचेगी। यहां शिव विवाह का प्रसंग होगा। 15 की सुबह11 बजे गंगा दर्शन, नारद मोह, स्वायम्भुव मनु का तप व वरदान, 16 को प्रतापभानु से रावण जन्म तक का मंचन होगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today