यंग टैलेंट की आवाज है 'ब्लॉसम ऑफ पोएट्री'

हम सभी में कोई न कोई कलाकार जरूर है. किसी में दूसरों को हंसाने वाला कलाकार तो किसी में दुनिया की खूबसूरती को कैनवास पर उतारने का कलाकार. म्यूज़िक, डांस, मिमिक्री जैसी तमाम प्रतिभाएं हैं जिनमें से कुछ न कुछ तो हमारे आपके अंदर जरूर होगा। सवाल यही उठता है कि कुछ इन टैलेंट को सबके बीच दिखा पाते हैं तो बहुत से लोग कभी सामने नहीं ला पाते।ब्लॉसम ऑफ पोएट्री एक ऐसी ही कम्युनिटी है जो इस तरह के टैलेंट को सबके बीच लेकर आती है।

ब्लॉसम ऑफ पोएट्री' युवा कलाकारों को बढ़ावा देने, उन्हें प्रोत्साहित करने और उनकी प्रतिभा को पहचानने के लिए जाना जाता है. यह मंच लेखकों, मनोरंजनकर्ताओं और संगीतकारों को एकत्रित करने का काम करता है. यहां कलाकार कविता, शायरी, रैप, कहानी सुनाना, संगीत, स्टैंडअप कॉमेडी आदि कर सकते हैं. लेकिन जरूरी यह है कि वह उनके अंदर का अपना टैलेंट होना चाहिए।

'ब्लॉसम ऑफ पोएट्री' इसके लिए हर महीने अपनी स्थायी जगह ग्रेटर फरीदाबाद के आरपीएस सवाना में ओपन माइक कराता है, जहां कोई भी आ सकता है और वहां लाइव परफॉर्मेंस कर सकता है. इनके प्रोग्राम तमाम शहरों में अक्सर होते रहते हैं।

अगर आपको भी इस कम्युनिटी से जुड़ना है तो आप घर पर अपना वीडियो रिकॉर्ड कीजिए और फिर उन्हें भेज दीजिए. फिर उनकी टीम अपने डिजिटल चैनल पर वो वीडियो अपलोड कर देगी.

आपको बता दें कि ब्लॉसम ऑफ पोएट्री ने आरपीएस सवाना, ग्रेटर फरीदाबाद में 15 दिसंबर 2018 को अपनी दूसरी कविता ओपन माइक "पोएट्री, माइक और एप" का आयोजन किया था. इसमें दिल्ली, नोएडा, गुड़गांव और बीकानेर (राजस्थान) के 14 प्रतिभाशाली लेखकों/शायरों/कवियों ने भाग लिया।

इस ओपन माइक के सभी वीडियो ब्लॉसम ऑफ पोएट्री के डिजिटल चैनल पर अपलोड कर दिए गए हैं. यह जानने के लिए कि हमारे प्लेटफ़ॉर्म पर प्रदर्शन कैसे किया जाता है, कोई भी व्यक्ति [email protected] पर ईमेल भेज सकता है या हमें 9953015050 पर कॉल कर सकता है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Blossom of Poetry working to support emerging artists Blossom of Poetry working to support emerging artists